दानशीलता की अच्छाई और बुराई

दयाशीलता विशेषांक सामाजिक चिंतन

दानशीलता का विषय अच्छाई/बुराई के बीच शुरु से झुल रहा है  फिर भी कोई भी सामाजिक अथवा धार्मिक  और सार्वजनिक कार्य बिना चंदे के नही चलते हैं | समाज से दान प्राप्त होता है  तभी आज तक बदस्तुर चल रहे हैं |

अधिकतम, देने वाला एक परंपरा मान निर्वाह करता है तथा “इसका क्या होगा” पर अधिक विचार नही करता है — इसी आड़ मे अच्छाई के साथ बुराई भी पनपती है जो एक लिमिट तक क्षम्य तथा शुन्य समझ लिया जाता है — परंतु सामाजिक स्थिति थोड़ी भिन्न हो जाती है – यहां “ना तो निगलो जाए नाही उगली जाए” -कारण रिश्ते बने रहते हैं |

बृजमोहन जी चंद्रवंशी, भोपाल 

प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय)
Latest posts by प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय) (see all)