डिजिटल विमर्श
Home » लेख » स्तम्भ » सामाजिक चिंतन » फ्रंट लाइन का लाभ नहीं उठाया

फ्रंट लाइन का लाभ नहीं उठाया

आस्था सक्सेना ने फ्रंट लाइन का लाभ नहीं उठाया..
18 प्लस के साथ ही वैक्सीन लगवाया

कोटा 8 मई 2021, कोटा की बेटी राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित गायिका ब्रांड एम्बेसेडर चिकित्सा विभाग आस्था सक्सेना 2 वर्ष की उम्र से ही अपने माता-पिता संगीता देवेंद्र के साथ संगीत योग एवं 2016 से बेटी बचाओ बेटी पढाओ  ब्रांड एम्बेसेडर के रूप में सामाजिक सांस्कृतिक कार्यक्रमों में निःस्वार्थ सहभागिता करतीं रहीं हैं |   

जब कोविड 19 के लिए वैक्सीन लगना शुरू हुए तब सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स वैक्सीन लगवाने पहुंच रहे थे। परिवार और मित्रों ने तीन बार आस्था सक्सेना को तैयार कर वैक्सीन लगाने की कोशिश की  वह सबकी बात मान कर हां कर देती किंतु अचानक किसी भी बात को लेकर ऐनवक्त पर मना कर देती कि जब 18 प्लस के युवा भाईयों बहिनों का टीकाकरण होगा तब लगवाना न्याय पूर्ण होगा अभी 60 प्लस व 45 प्लस को लगना जरूरी है।

इस बीच कोविद संकट के दौरान आस्था मास्क और फैस शील्ड  दस्ताने पहन कर कालेज में पढ़ने भी गईं और फायनल की परीक्षा भी दी। प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने के बाद राजकीय कला  महाविद्यालय कोटा में एम ए अंग्रेज़ी साहित्य की कक्षा में पढ़ने गई थी। उल्लेखनीय है कि आस्था सक्सेना ने 7 मई को स्लाॅट बुक कराकर रेलवे स्कूल में कतार में शामिल होकर वैक्सीन लगवाया

आस्था की ईमानदारी जिम्मेदारी पर..प्रो0 गिरिराज सुधा .डॉ 0 ऊषा खंडेलवाल, श्री राजीव मल्होत्रा, शर्मिला सक्सेना, संजीव सक्सेना, प्रशांत सक्सेना ..सहित कई .  प्रशंसकों ने प्रशंसा की और आशीर्वाद दिया ।

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें

इस लेख के रचनाकार से मिलिये

प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय)

मास्टर इन कम्प्युटर एप्लिकेशन (MCA), मास्टर इन हिन्दी लिट्रेचर (MA, साहित्य), पी॰एस॰एम॰ (scrum॰org, यूएस), बेचलर ऑफ लॉं (LLB ऑनर), बेचलर ऑफ कॉमर्स, एम.एस.पी.सी.ए.डी.

हमारा धर्म हमारी संस्कृति

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें