बसंत

काव्य होली

पावन बसंत मधुरम बसंत,जय जय बसंत।
सुखमय बसंत मंगल बसंत जय जय बसंत।।

दिन बड़े गर्मी बड़ी
मौसमी मधुमास भली
सुनहरा पर्व वसंती
जीने की आस बड़ी
सब कुछ नया लागे, जय जय बसंत।
सुखमय बसंत मंगल बसंत जय जय बसंत।।

मौसमी देश है भारत
स्वर्णिम देश है भारत
जन्मे प्रभु यहीं पर
सनातनी देश है भारत
संस्कार सभ्यता सब कुछ यहां जय जय बसंत।
सुखमय बसंत मंगल बसंत जय जय बसंत।।

हिलमिल रहें सुखमय रहें
प्रेम से सब गले मिलें
गाएं मिलकर गीत बसंती
संगीत मिले सुर ताल मिले
वरदान मिले सब ज्ञान मिले जय जय बसंत।
सुखमय बसंत मंगल बसंत जय जय बसंत।।

रचियता
लक्ष्मीनारायण “उपेंद्र”
एडवोकेट

प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय)
Latest posts by प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय) (see all)

1 thought on “बसंत

Comments are closed.