डिजिटल विमर्श
Home » लेख » स्तम्भ » साहित्य सरोवर » महादेव का बनारस

महादेव का बनारस

कभी आऊंगा चौखट पे तुमहरी देखे कब तुम बुलाते हो

बैठुंगा घाट पे भी तुम्हरी देखे कितना लहराती हो
घोटुंगा भाँग भी देखे कितना चढ़ जाते हो
घूमुंगा गलियों में भी तुम्हरी देखे कितना भूलाती हो

धुनी रमाऊंगा मन्दिर के किसी कोने देखे कब तक रूठ जाते हो,
चखुंगा चाट काचौरी भी देखे कितना खिलाते हो
पढूँगा वेद पुरान भी देखे कितना बाचते हो
पहनुंगा धोती जनेऊ भी देखे कितना ईठलाते हो

घोलूँगा पान भी तुम्हारा देखे कितना लाली लाते हो
बांध कलावा शीश नवाऊंगा,आऊंगा तुम्हरे दर भी
मनाऊंगा भोले को मैं भी
देखे कितना जल तुम चढाते हो

जिवित नहीं तो चार कांधे आऊँगा
महा शमशान में स्वाहा होऊ फिर देखे कैसे न मोक्ष दिलाते हो

छोड़ूँगा ना कुछ भी ऐ बनारस जो कुछ भी बतलाते हो
कभी आऊंगा चौखट पे तुमहरी देखे कब तुम बुलाते हो
देखे कब तुम बुलाते हो !

Add comment

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें

इस लेख के रचनाकार से मिलिये

आनंद कुमार कांस्यकार

फाइबर अभियंता, रिलायंस जियो इंफोकॉम, शिक्षा: इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग से प्रोधोगिकी मे स्नातक, इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंग मे डिंप्लोमा, मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश

हमारा धर्म हमारी संस्कृति

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें