डिजिटल विमर्श
Home » लेख » स्तम्भ » नई दिशाएं » ये हैं भविष्य के रोजगार, अपने बच्चों को करें तय्यार

ये हैं भविष्य के रोजगार, अपने बच्चों को करें तय्यार

जो लोग भविष्य की तैयारी वर्तमान में कर लेते हैं उनका भविष्य सफलतम समय देखता है । कोई खेल हो, जिंदगी के सपने हों, या रोजगार और अच्छे कैरियर की अभिलाषा, सफलता आज की आज नहीं मिलती । आज जिनको सफलता मिली है, उनकी तैयारी उन्होंने बहुत पहले आरम्भ की होगी ।

हर माता-पिता अपने बच्चों के बेहतर भविष्य की कामना करते हैं और चाहते हैं कि वे बड़े होकर या अपनी शिक्षा पूरी कर के अच्छे रोजगार हासिल करें, व्यापार में प्रगति करें और अपना जीवन सफलता पूर्वक जियें । लेकिन जिंदगी में सफलता इत्तफाक से नही मिलती, कड़े संघर्ष, मेहनत, त्याग परिश्रम और योजना से मिलती है । सफलता की कामनाओं के साथ हर मातापिता को अपने बच्चों को सही राह दिखानी होती है, उन्हें उचित मार्गदर्शन देकर प्रोत्साहित किया जाता है । लेकिन कभी कभी ऐसा भी होता है कि आज की गई तैयारी कल अधूरी लगती है, और बच्चों के सामने संकट खड़ा हो जाता है, आगे की राह स्पष्ट दिखाई नही पड़ती ।

इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन आज हम बात करेंगे योजना की, कैसे सही योजना का अभाव हमारे बच्चों के भविष्य को कठिनाई में डाल देता है जिसके परिणामस्वरूप उन्हें किसी ऐसे रोजगार क्षेत्र में जाना पड़ता है जिसकी उन्हें अभिलाषा नही थी, और जीवन भर संघर्ष और समझौते में बिताना पड़ता है । आइए समझे आज हम क्या करना चाहिए जिससे कुछ वर्ष पश्चात हमारे बच्चे किसी अज्ञात दोराहे पर खड़े हो कर भविष्य की अनिश्चितता से दुखी व परेशान न हों ।

पहला कदम

विशेषज्ञ कहते हैं कि स्कूली शिक्षा के दौरान बच्चों की अभिरुचियों के अनुरूप उन्हें भविष्य केलिये तैयार किया जा सकता है । हर बच्चा यूनिक होता है, उसके रुझान, रुचियों और क्षमताओं को समझना सबसे पहला कदम है । सामान्यतः बच्चे अपने आसपास देखकर आरंभिक सोच बनाते हैं कि उन्हें क्या करना होता है । मातापिता भी वर्तमान में किसी जानपहचान, रिश्तेदार और आसपड़ोस के युवाओं को किसी क्षेत्र में सफलता पाता देख कर प्रेरित हो जाते हैं और अपने बच्चों को उसी दिशा में बढ़ने के प्रेरित करते है या के बार अनावश्यक दवाब भी बनाते हैं ।

हमारे लिए आवश्यक है की बच्चे की विशेषताओं को नैसर्गिक रूप में जानने की कोशिश करें, और उसकी रुचियों को निखारने में सहयोग करें, चाहे वो किसी भी क्षेत्र से संबंधित हो, बचपन मे कोई दवाब न डालें बल्कि एक माली की तरह उनकी देखरेख करते हुए उनके मस्तिष्क का विकास होने दें ।

अगला कदम

जब बच्चे समझदार होने लगें तब हमारा अगला लक्ष्य होना चाहिए सही रोजगारपरक मार्गदर्शन। हमें अपने बच्चों को भविष्य केलिये तैयार करना चाहिए, वर्तमान केलिये नही । जब आपके बच्चे स्कूल की शिक्षा पूरी करने वाले हों तब उनके सामने आने वाले 4-5 वर्षों का कैरियर रोडमैप तैयार होना चाहिए ताकि वे भविष्य की चुनौतियों का सामना करने केलिये तैयारी कर सकें ।

बच्चों का मार्गदर्शन करने केलिये हमे स्वयं को भी तैयारी करनी चाहिए, दुनिया किस गति से आगे बढ़ रही है, किस दिशा में बढ़ रही है इसका आभास हमे होना चाहिए तभी अपने बच्चों को हम भविष्य दृष्टि से मार्गदर्शन कर सकेंगे ।

जानें कुछ आधुनिक समय के रोजगारों को

भविष्य उस गति से नही बदलता जिस गति से हम चाहते हों, इसलिए हमें समय की गति पर नज़र रखना होगी और उसी से कदमताल मिलाकर चलने की कोशिश करना होगी। covid महामारी ने वैसे भी दुनिया के काम करने के तरीकों को बदल दिया है । तकनीकी रूप से जो परिवर्तन लॉकडाउन के दौरान हुए हैं सामान्यतः उतनी तीव्रता से नही हो पाते ।

व्यवसाय हो, दुकानदारी हो, नौकरियां हो सभी मे आधुनिक तकनीक का भरपूर प्रयोग हो रहा है, काम करने के तरीकों में भारी परिवर्तन हुआ है और यह परिवर्तन अब रुकने वाला नही है । भविष्य की शिक्षा तथ्य के आधार पर परिवर्तित हो रही है । हमको भी उन क्षेत्रों का पूर्वानुमान करना चाहिए जहां नए रोजगार उपलब्ध होंगे ताकि आज से कुछ वर्ष पश्चात हमारे बच्चे खुदको पिछड़ा हुआ न पाए । इस बार कुछ ऐसे आधुनिक जॉब क्षेत्रों को पहचानने का प्रयास करते हैं जो अगले कुछ वर्षों तक ट्रेंड में बने रहने वाले हैं:

डाटा साइंटिस्ट और डाटा एनालिस्ट

अगर आप ध्यान दें तो आप पाएंगे दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियां कुछ भी नही बनातीं, न कुछ बेचती हैं फिर भी सबसे धनवान, शक्तिशाली और विशाल रोजगार देने वाली कंपनियां हैं । 

कुछ उदाहरण जैसे फेसबुक, गूगल, ट्वीटर का लें जिनके अपने कोई प्रोडक्ट नही हैं । ओला और ओयो जैसी कंपनियों के उदाहरण है जिनके पास अपनी खरीदी एक कार या एक होटल का कमरा नही है लेकिन वे दुनिया की सबसे बड़ी पब्लिक ट्रांसपोर्ट और हॉस्पिटालिटी कंपनियों में शामिल है ।

इन सब का व्यापार एक ही आधार पर चलता है जो है यूजर का डाटा । आज डाटा सबसे कीमती प्रॉपर्टी है और ये कंपनियां हजारों प्रोफेशनल को जॉब देती हैं जिनका मुख्य काम इसी डाटा को प्रोसेस करना और उसका विश्लेषण करना होता है । इस क्षेत्र की प्रमुख प्रोफाइल हैं डाटा साइंटिस्ट और डाटा एनालिस्ट है । इस पोस्ट पर सैलेरी भी लाखों रुपयों में होती है अतः निश्चित ही आकर्षक क्षेत्र है और प्रतिद्वंदिता अभी बहुत कम है ।

ब्लॉक चैन डेवलपर

पैसा जिस पर दुनिया चलती है, वह पुरातन काल से ही अपने रूप बदलता रहता है । एक समय ऐसा भी आया जब चमड़े के सिक्के भी चलन में आये । मुद्रा पर हमेशा शक्तिशाली लोगों का नियंत्रण रहा है । आधुनिक तकनीक ने मुद्रा को भी अछूता नहीं रहा और विभिन्न प्रकार के अल्टरनेट प्रारूप सामने आने लगे । अगर आप थोड़ा बहुत भी अर्थशास्त्र के बारे में रुचि रखते होंगे तो अपने एक नई प्रकार की करेंसी या मुद्रा के बारे में सुना होगा जिसका नाम है “बिटकॉइन” जिसे क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी भी कहा जाता है । यह पूर्णतः तकनीकी आधारित डिजिटल मुद्रा है जिसने पूरी दुनिया मे सरकारी तंत्र की नींद उड़ा रखी है ।

यह एक वैकल्पिक मुद्रा है जिसे धीरे धीरे दुनिया के विभिन्न देशों में मान्यता दी जा रही है । आज यह मुद्रा दुनिया मे विनिवेश का एक आकर्षक क्षेत्र मानी जाती है । इस क्षेत्र में काम करने केलिये विशेष योग्यता प्राप्त तकनीशियन चाहिए होते हैं जिन्हें ब्लॉक चैन डेवलपर कहा जाता है । एक ताजा सर्वेक्षण के अनुसार जितने ब्लॉक चैन डेवलपर अभी हैं उससे 2000 से 6000 प्रतिशत ज्यादा की आवश्यकता है और यह आवश्यकता भविष्य में और बढ़ने वाली है । इसलिए यह बहुत आकर्षक और अच्छी सेलरी वाला जॉब क्षेत्र है जो अगले 10 वर्षों में और बढ़ता जाएगा ।

क्लाउड कंप्यूटिंग प्रोफेशनल

आरम्भ में व्यापार और उद्द्योग का डाटा उनके अपने कार्यालयों में स्थित कंप्यूटरों की हार्डडिस्क में रहता था । जैसे जैसे व्यापार में तकनीकी प्रवेश बढ़ता गया वैसे वैसे डिजिटल डाटा की मात्रा में भी इजाफा होता रहा ।

आज हर व्यापार आधुनिक तकनीक पर आधारित है और आवश्यकताओं में भी परिवर्तन हुए हैं। हर व्यापारी और उद्योगपति यह चाहता है कि उसके हर आफिस में जानकारियों और आंकड़ों का एक समान एक्सेस उपलब्ध रहे ताकि कहीं पर काम मे बाधा न आये । उदाहरण केलिये हमारे बैंक के व्यवहार हम किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल से कर सकते हैं क्योंकि हमारा बैंक खाता इंटरनेट के माध्यम से हमारीं जानकारी को हम तक पहुंचा देता है ।

यह इसलिए संभव हो पाता है कि अब जानकारी किसी एक सीमित दायरे में नही रहती है बल्कि वैश्विक स्तर पर उपलब्ध रह सके इसलिए उसे एक ऐसे अत्यंत विशाल और जटिल संग्रहण व्यवस्था में रखा जाता है कि वह कहीं से भी चौबीसों घंटे उपलब्ध रहे । इसके लिए विशाल नेटवर्क सर्वर की व्यवस्था की जाती है । इसलिए इसे क्लाउड कंप्यूटिंग सर्वर कहा जाता है । क्लाउड कंप्यूटिंग नया जॉब प्रोफाइल है और आने वाले कई वर्षों तक इसकी मांग लगातार बढ़ती जानी है । अतः अगर इस क्षेत्र में आज से तैयारी की जाए तो जब तक बच्चे पढ़ाई पूर्ण करेंगे वे इस कार्य के योग्य हो जाएंगे ।

और अंत में

निश्चित ही तकनीक बहुत तीव्रता से बदलती है लेकिन जितना अधिक इन्वेस्टमेंट इन क्षेत्रों में हुआ है जिससे अगले आने वाले कई सालों तक ये क्षेत्र रोजगार प्रदान करने वाले प्रमुख क्षेत्र रहेंगे अतः अपने बच्चों की रुचि इस और निर्मित करने का प्रयास करना उचित रहेगा ।

आज इस स्तंभ में इतना ही, अगले अंक में पुनः और उसे आधुनिक रोजगार क्षेत्रों का परिचय दिया जाता रहेगा ताकि विमर्श के पाठक भविष्य केलिये आधार तैयार कर सकें । उम्मीद है आपको यह स्तम्भ पसंद आएगा ।

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें

इस लेख के रचनाकार से मिलिये

प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय)

मास्टर इन कम्प्युटर एप्लिकेशन (MCA), मास्टर इन हिन्दी लिट्रेचर (MA, साहित्य), पी॰एस॰एम॰ (scrum॰org, यूएस), बेचलर ऑफ लॉं (LLB ऑनर), बेचलर ऑफ कॉमर्स, एम.एस.पी.सी.ए.डी.

हमारा धर्म हमारी संस्कृति

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें