विचारों से आगे

बात छोटी अर्थ गहरे

विचार किसी भी कार्य का आरम्भ है, जैसे किसी आलीशान भवन की नींव के पत्थर, नींव जितनी मजबूत होगी, भवन की उम्र उतनी ज्यादा, उसी तरह हमारे विचार जितने परिष्कृत होंगे हमारे कार्यों की सफलता उतनी ही सुनिश्चित होगी।

प्रदीप
प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय)
Latest posts by प्रदीप वर्मा (हैहयवंशीय) (see all)