हैहयवंश के गौत्र

[et_pb_section fb_built=”1″ _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″ custom_padding=”5px||15px|||” background_color=”#E02B20″][et_pb_row _builder_version=”4.3.4″ width=”96%” max_width=”2560px” hover_enabled=”0″ custom_padding=”23px|||||”][et_pb_column _builder_version=”4.3.4″ type=”4_4″][et_pb_text _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″ text_text_color=”#FFFFFF” text_font_size=”18px” header_text_color=”#FFFFFF” header_text_align=”left” header_font_size=”31px” header_line_height=”1.2em” header_letter_spacing=”1px” header_font=”|600|||||||”]

अखिल भारतीय कसेरा समाज एक प्राचीनतम सभ्यता के प्रतिनिधि हैहयवंश की अनेक शाखाओं में एक कसेरा, ताम्रकार, ठठेरा इत्यादियों में प्रमुख समाज है । हैहय पुराणों में वर्णित भारत का एक प्राचीन राजवंश था। हरिवंश पुराण के अनुसार हैहय, सहस्राजित का पौत्र तथा यदु का प्रपौत्र था। श्रीमद्भागवत महापुराण के नवम स्कंध में इस वंश के अधिपति के रूप में अर्जुन का उल्लेख किया गया है। पुराणों में हैहय वंश का इतिहास चंद्रदेव की तेईसवी पीढ़ी में उत्पन्न वीतिहोत्र के समय तक पाया जाता है। श्रीमद्भागवत के अनुसार ब्रह्मा की बारहवी पीढ़ी में हैहय का जन्म हुआ। हरिवंश पुराण के अनुसार ग्यारहवी पीढ़ी में हैहय तीन भाई थे जिनमें हैहय सबसे छोटे भाई थे। हैहय के शेष दो भाई-महाहय एवं वेणुहय थे जिन्होंने अपने-अपने नये वंशो की परंपरा स्थापित की। 

भारत सरकार के सन 1860 के 21 वे एक्ट के अनुसार रजिस्टर्ड भारतीय हैहयवंशीय शत्रीय महासभा , नई दिल्ली द्वारा सन 1950 में भारत के विभिन्न प्रान्तों में रहने वाले हैहयवंशी समाज से सम्बद्ध कसेरे , तमेरे , ठठेरे कहलाने वालो के सभी उपभेद ( प्रांतीय स्तर पर बने ) जहानाबादी , बुन्देलखंडी , पुर्विया , पछौया , छ्तीसगढ़िया , बिहारी और राजस्थानी आदि नामों से विख्यात समाज की जनगणना कराई गई थी I इस जनगणना के आधार पर 246 गौत्रो की जानकारी प्राप्त हुई I उत्तर प्रदेश में ठठेरा – कसेरा और तमेरा तथा कुछ स्थानों पर हयारण शब्द का उपयोग हुआ है I मध्य प्रदेश में कसेरा – तमेरा – ताम्रकार , बिहार में कसेरा – ठठेरा – कास्यकार राजस्थान में कसेरा – ठठेरा – कंसारा , बंगाल में कर्मकार, उड़ीसा में ठठारी , ठठियार महाराष्ट्र में ताम्वट , पंजाब – हरयाणा में ठठेरी – कसेरा तथा गुजरात में कंसारा नामों से जाने जाते है I

हैहय वंशी राजाओं के वैवाहिक सम्बन्ध राजघरानो में ही होते थे। व्यवसायी, कृषक, सैनिक या अन्य नौकरी करने वाले वैवाहिक संबंधो को अपनी बराबरी के लोगो के साथ किया करते थे। कालांतर में जैसे जैसे समय बीतता गया, सभी हैहय क्षत्रिय अपने अपने दायरे में बंधते चले गए और अपने वैवाहिक सम्बन्ध भी उसी के अनुसार करने लगे। जैसे जैसे समय समय बीतता गया, वे सभी अपने अपने व्यवसाय के अनुसार जाति के रूप में भी परिवर्तित होते गये, इसीलिएकी बहुत सी जातियां अपने को हैहय वंशी क्षत्रिय कहती है। गोत्र व्यक्ति की जातिगत पहचान के साथ ही उसकी कुटुम्भ की पहचान भी है | हमारी संस्कृति के अनुसार समान गोत्र मे विवाह प्रतिबंधित है जिसके वैज्ञानिक कारण भी हैं, इसीलिए हमे पता होना चाहिए की किस गौत्र मे विवाह संबंध करें | हमारे समाज के विभिन्न गोत्र की सूची नीचे दी जा रही है |

[/et_pb_text][/et_pb_column][/et_pb_row][/et_pb_section][et_pb_section fb_built=”1″ _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″ custom_padding=”5px|10px|15px|10px|false|true”][et_pb_row _builder_version=”4.3.4″ column_structure=”1_4,1_4,1_4,1_4″ width=”96%” max_width=”2560px” hover_enabled=”0″ custom_margin=”|15px||15px|false|false”][et_pb_column _builder_version=”4.3.4″ type=”1_4″][et_pb_text _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″]

1-पटनिया (patania)
2-लुह्रोत या लुह्रौत (luhrot, luhraut)
3-उकासे (Ukase)
4-अत्री (atri)
5-बुध्वनिया (budhvaania)
6-नरवरिया या नेवरिया (Narvaria or Newaria)
7-शिवपुरिया (shivpuria or sahaspuria)
8-धुषा धुचहा  (dhusha, dhuchchuhaa)
9-महलवार (Mahalwar)
10-बडवार (Badwaar)
11-उसेवा (Usewa, Useka)
12-सखिया (Sakhia)
13-धुवेल (dhuwel)
14-खमेले (Khamele)
15-करैया (karaiya)
16-परमार (Parmaar)
17-लखेटे (Lakhete)
18-कांता, कांटा कांपा  (Kanta, Kaantaa ,kanpa)
19-चौहरिया, चहारविया , (Chauharia, Chaharwiya)
20-जसेठ, जसाठी (jaseth, jasathi)
21-मुलहा (mulha)
22-सोंठो (Sontho, Sonthi)
23-ताल्हा , तेल्हा,  तिलहा (Talha, Telha)
24-रतन पुरिया (Ratanpuria)
25-देवपुरिया (Devpuria)
26-बघेल (अब यह एक अलग जाति है ) (Baghel)
27-पैगवार (Paigwar)
28-खुटा (khutaa)
29-खुटहा (Khutha)
30-बरैया , बराया (Baraiya, Baraya)
31-हतोल (Hatol)
32-गुढा (Gudha)
33-विल्केट , बिलकता (Bilket, Bilkait)
34-मेवाड़ी (Mewadi, Mewari)
35-मेवाती (Mewati)
36-कर्रा , खर्रा (karra, Kharra)
37-बरहा (baraha)
38-झाझाराया, झाझरी (Jhajhari) (Jhajharaya)
39-लुह्रौत , लोह्रौत (Luhraut, Lohtraut)
40-कलचुरी (अब यह एक अलग समाज है ) (Kalchuri)
41-जसाठी (Jasathi)
42-बडोनिया (Badonia)
43-बुदैया (Budaiya)
44-सूर्यमुखी (Soorymukhi)
45-छिपा (Chhipa, Chhippa)
46-चौहान , चौधरी , चौधारिया, चौधरिया, चौधरी (Chaudhariya, Chaudhri) (Chauhan, Chaudhri, Chaudharia)
47-गहलौत , (अब यह एक अलग समाज है ) (Gahlaut, Guhlaut)
48-पटनिया , पटनिया (Patnia, Patania)
49-जराठे (Jarathe)
50-गाढ़ा, मोटा (Gadha, mota)
51-रामगढ़िया (Ramgadhia)
52-लोध्र (अब यह एक अलग जाति है ) (Lodhra, lodh)
53-पचवारिया (panchwaria)
54-मेदनधिया, मेदनदिया (Mednadhiya)
55-सोनपलिया (Sonpalia)
56-महेंद्रनिया (Mahendrania)
57-सौड़ पलिया (Saund palia)
58-हरदिया (Hardiha, Hardia)
59-खानखाप्रा, खानखाप्रे, खानखखानख  (Khankhapra)
60-असल सिया, अतलसिया (Asal Sia, atal sia)
61-झामरिवल, झाम्रीवाल (Jhamriwal)
62-कूलबाल (Koolbaal)
63-अमरसरिया (Amarsaria)
64-नरेडी (Naredi)
65-मोरिया . मोर्य (अब यह एक अलग जाति है ) (Moriya, Maurya)

[/et_pb_text][/et_pb_column][et_pb_column _builder_version=”4.3.4″ type=”1_4″][et_pb_text _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″]

66-खेत्पलिया, खेरपालिया (Khetpalia, Kherpaliya)
67-आमेर (Aamer)
68-धुच्छा (Dhuchchha)
69-सेठिया , सेठ (Sethia, Seth)
70-पिनाखन , पीनाखान (pinakhan, peenakhan)
71-पहाड़ी गोटा (Pahadi Gota)
72-बलिया (Balia)
73-हयारण (Hayaran)
74-झरिया (Jharia)
75-पोन्पलिक (Ponpalik)

76-बहनिया , भानिया (Bahnia, Bhania)
77-अनन्त (Anant)
78-चासुडिया (Chasudia)
79-बांगडा , बांगडी (Bangda, Bangdi)
80-चावडी (Chawdi)
81-बावड़ी (Bawdi)
82-पुहावाड़े (Puhaawaade)
83-भाडावसिया, भाड़ावासी (Bhada Wasia)
84-भरद्वाज (अब यह एक अलग जाति है ) (Bhardwaj)
85-मवाली (Mawali)
86-मेहतर (अब यह एक अलग जाति है ) (Mehtar)
87-बंगडिया (अब यह एक अलग जाति है ) (Bangdia)
88-पलिया (Palia)
89-मेद्पडिया (Medpadia)
90-सिर्जोडिया (Sirjodia)
91-लाखे , लखपतिया (Laakhe, Lakhpatia)
92-मोहरिया (Moharia)
93-मेध धारिये (Medh dhariye)
94-सिखैया (Sikhaiya)
95- -कश्यप (अब यह एक अलग जाति है ) (Kashyap)
96 -कृष्नात्रे (Krishnaatre)
97 -शादिली या शांडिल्य मतलब विश्वकर्मा , लोहार (अब यह एक अलग जाति है ) (Shandilya, vishwkarma, Lohar)
98 -नारायण (Narayan)
99-खरवार (Kharwar)
101-छप्पा (Chhappa)
102-नारेली (Naareli)
103-अल्तास (Altaas)
104-पंच्पडिया (Panchpadi)
105-घोड्हा ,  घोरहा,  कोरहा (Ghodha)
106-नाकेडिया (Naakedia)
107-रावत (अब यह एक अलग जाति है) (Rawat)
108-सिरबैया (Sirbaiya)
109-छातीया (Chhateeya)
110-छरिया (Chharia)
111-नरेडी (Naredi)
112-बरिया (Baria)
113-वरिया (Variya)
114-सेलकी (Selkee)
115-देधवाल (Dedhwaal)
116-गिल्कता (Gilkata, Gilkatta)
117-गोते (Gote)
118-लुसाह (Lusah)
119-मोटा पहरिया (Mota pahria)
120-कुच्बंधिया (अब यह एक अलग जाति है) (Kunchbandhiya)
121-मोहरिया (Mohriya)
122-मेक्सी भाविया (Mexi, Bhaviya)
123-बिल्छारा , बिल्छरा (Bilchhara, Bilchhara)
124- उकसाया (Uksaya)
125-जखाडिया (Jakhadia)
126-नायक (अब यह एक अलग जाति है) (Naayak)
127-अतलस गंधोर (Atlas gandhor)
128-सिरवैया (Sirwaiya)
129-हल्लास (Hallas)
130-भकिया (Bhakiya)

[/et_pb_text][/et_pb_column][et_pb_column _builder_version=”4.3.4″ type=”1_4″][et_pb_text _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″]

131-भामिया (Bhamiya)
132-मेनादिया (Menadiya)
133-ग्वाला, ग्वालवंशी ग्वालेरियी(Gwala, Gwalvanshi) ये विलासपुर मे पाये जाते है
134-अय़ॊध्य़ावासी, अयोध्यापारी(Ayodhyawasee)
135-कंजर (Kanjar)
136-अमरसरिया  ( Amarsarya)
137- अलसा  (Alsa)

138- कटिया    (Katiya)
139- अवरोहिता (Awrohita)
140- उडहा (Udhaa)
141- कन्नोड (Kannod)
142- कपिल (Kapil)
143- कठान (Kathan)
144- कठाईगर (Kathaigar)
145-कतंगी (Katangi)
146- करकस (Karkas)
147- कमण्डल (Kamandal)
148-  कांठी, कांठा (Kanthi, Kantha)
149- कालाडेरा (Kaladera)
150- कसियारे (Kasiyare)

151-  कनकटिया (Kankatiya)
152-  बाले (Baley)
154- कोसिक,  कोशिक,  कोशीको (Kosik, Koshik, Koshiko)
155-खरमोरिया (Kharmoriya)
156-कौशल्य (Kaushaly)
157- खमेवे (Khamewe)
158- अहवा (Ahwa)
159-  खाडन (Khadan)
160- खचीहार (Khacheehar)
161- खंगारे (Khangarey)
162- खूला (Khoola)
163- खापरे (Khaprey)
164-  खजरिहा (Khajariha)
165- खोरीवाल (Kheriwal)
166- गुलरहा (Gulraha)
167-खलचुगा (Khalchuga)
168- गढैया (Gadhiya)
169-गुरवरिया (Gurwariya)
170- पारिया (Paariya)
171- थरियाचोर (Thariyachore)
172- अमरही (Amrahi)
173- चारज (Charaj)
174- खापरा (khapra)
 175-गंधोर (Gandhora)176- चिनौरिय (Chinauriya)
177- वाल(Vaal)
178- चिचोल (Chichol)
179- चुरैट (Churait)
180- गड़ेसरिया (Ganesariya)
181-  चिड़ीमार(Chideemaar)
182- चुरकट (Churkat)
183- चौसिहा (Chausiha)
184- गिन्नोस (Ginnos)
185- चुडिहार (Chidihaar) ,
186- चौरिहा (Chauriha)
187- छारिया (Chhariya)
188- गुर्जरिहा (Gurjariha)
189- चोरवा (Chorwa)
190- छ्पहा (Chhapha)
191- छैवरिया (Chhaiwariya)
192- गोली (Golee)
193- पाडवा(Padwaa)
194- चंदौरिया (Chandauriya)
195- छुलहा (Chhulha)

[/et_pb_text][/et_pb_column][et_pb_column _builder_version=”4.3.4″ type=”1_4″][et_pb_text _builder_version=”4.3.4″ hover_enabled=”0″]196- छीपा (Chheepa)
197- धरियाचारे(Dhariyacharey)
198-जीवेररिया (Jeewerariya)
199- ठठार (Thathaar)
200- चरखी(Charkhee)
201- जाजमौआ (Jazmaua)
202- टॉक (Taank)
203- पचनिया (Pachaniya)
204- चावडिय (Chawdiya)
205- टसुआ (Tasua)
206 डेरहा (Derha)
207- थकेरिया (Thakeriya)
209- चिरैवान (Chiraiwaan)
210- हुहरवाल (Huhurwaal)
211- तौलगे (Taulgey)
212- अनन्त (Anant),
213- अगोहरी (Agohri)
214- अमनसुक (Amansuk)
215- कटारा (Katara)
216- चंद्रहार(Chandrhaar)
217- छ्पट्टा (Chhapatta)
218- मुडकता (Mudkta)
219-पहारना (Paharna)
220-भुसवारिया (Bhuswariya)
221- ढुहरा(Dhuhra)
222- पिंडारा (Pidara)
223- जंडिया (Jandiya)
224- मधुरिया (Madhuriha)
225- धोतिलहा(Dhotilaha)
226- पैगवार (Paigwar)
227- मसालीबाल (Masalibal)
228- नबाव (Nawab)
229- पैतिया(Paitiya)
230- झालाबाड़ी (Jhalabadee)
231- महआगार (Mahaagaar)
232- पचपाडिया(Panchpaadiya)
233- फतहपुरिया (Fatahpuriya)
234- डगसा (Dagsa)
235- माघवान (Maadhwaan)
236- पहाडी(pahadee)
237- बड़ोदिया (Badodiya)
238- डहरवाल (Daharwal)
239- पाटिय(Patiy)
240- बरनवाल (Barnwal)
241- लिमोड़ा (Limoda)[/et_pb_text][/et_pb_column][/et_pb_row][/et_pb_section]