डिजिटल विमर्श

लेखक - वैभव सिंह हैहयवंशी

Home » Archives for वैभव सिंह हैहयवंशी

वर्चुअली प्रार्थना सभा आयोजित

हैहयवंशीय क्षत्रिय केंद्रीय संचालन समिति ने की  वर्चुअली प्रार्थना सभाप्रेस विज्ञप्ति – 25 अप्रैल, 2021कोरोना महामारी की भेंट चढ़े हैहयवंशीय क्षत्रिय समाज के लोगों की आत्मा की शांति के लिए अखिल भारतीय हैहयवंशीय...

कुछ अलग किया

न नशा इश्क़ का कियान नशा दिखावे कानाम हो जिसका वैभवक्या किया अगर कुछ अलग न कियाक्या हुआ जो भूल गए क्या खता की जो रूठ गएहम तो गैरों की भी परवाह कर लेते हैं जनाबक्या हुआ जो अपनों को ही बेपरवाह कर गएहो गया हूं वाकिफ कौन...

क्या खता हुई जो मुस्कुरा न सके

क्या खता हुई जो मुस्कुरा न सकेक्या वजह थी जो गम को छिपा न सकेइस जवां दिल में जिंदादिली बनाए रख ऐ साथीये जहां है जहां आंखो ने आंसुओं को भी पनाह न दीमोहब्बत है दीवानों सीजिसे हम पा न सकेहुई खता जो हमसेदोबारा चाह न सकेकरना...

नई चुनौतियां और नए अवसर

नई चुनौतियां और नए अवसर कहते हैं जीवन में चुनौतियां न हो तो जीवन जीने में क्या मज़ा चुनौतियां ही मनुष्य को नए अवसर अनुभव प्रदान करती है चुनौती मनुष्य को बहुत कुछ सिखाती भी है तो बहुत कुछ छीन भी लेती है किसी ने सच ही कहा...

युवा होने की आजादी

युवावस्था जिंदगी का एक ऐसा पड़ाव है जहां आजादी की जरूरत सबसे ज्यादा महसूस होती है आज हमारे पास विचारों के आदान प्रदान से लेकर तकनीक, शिक्षा, संसाधन, विज्ञान, परिधान हर तरह की आजादी है ऐसे में जानना जरूरी है कि आज के...

खुद को सुधारने का अच्छा तरीका

खुद को सुधारने का अच्छा तरीका क्या खुद को सुधारा जा सकता है? आप सोच रहे होंगे जनशक्ति विशेषांक मे यह क्या लेख है, लेकिन इससे बेहतर क्या हो सकता है की जनशक्ति केलिए आत्मशक्ति को बढ़ाया जाए? क्या खुद मे सुधार लाने से...

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें