कावापूत की बुद्धिमानी

(कश्मीर पर आधारित यह कहानी डा० शिवन कृष्ण रैना की मूल रचना है) जिसे राष्ट्धर्म पत्रिका, लखनऊ में प्रकाशित है|) ठेस लगे, बुद्धि बढ़े – अर्थ – हानि मनुष्य को बुद्धिमान बनाती है। एक दिन एक कौवा और उसका पोता सडक के किनारे दाना चुग रहे थे|इतने में वंहा से एक मनुष्य गुजरा| मनुष्य को […]

Continue Reading

दृष्टिकोण

(मूल कहानीकार श्री विजय कुमार, मध्य प्रदेश, प्रकाशन राष्ट्रधर्म, लखनऊ) एक गाँव में दो भाई रहते थे, दोनों में एक बार जमीन -जायदाद को लेकर झगड़ा हो गया, गाँव वालों ने फैसला करना चाहे तो दोनों को मान्य नहीं हुआ l तब उन्होंने उन भाइयों से कहा कि वह पास के रहने वाले पटेल के […]

Continue Reading