चुनौतियाँ और अवसर गुत्थमगुथा होते हैं 

चुनौतियाँ और अवसर गुत्थमगुथा होते हैं  जिंदगी पल पल बदलती है, हम सोचते हैं कुछ और हो जाता है कुछ, इस स्थिति केलिये कहा जाता है “होत वही जो राम रची राखा”, यानी मनुष्य कुछ भी सोचे होगा तो वही जो भगवान ने तय कर रखा है । इस बात से लोग यह आशय निकलते […]

Continue Reading

अविवाहित युवाओं की बढ़ती उम्र और संख्या के लिये जिम्मेदार कौन ?

अविवाहित युवाओं की बढ़ती उम्र और संख्या के लिये जिम्मेदार कौन ? उपरोक्त विषय अंतर्गत, हमारा ऐसा मानना है कि, वर्तमान परिवेश में विवाह की उम्र निर्धारित करनी ही चाहिये । जैसे लड़की की शादी 21 वर्ष एवं लड़के की शादी पच्चीस वर्ष में आवश्यक रूप से कर देनी चाहिए। क्युंकि इस उम्र के बाद […]

Continue Reading

युवाओं की समस्या के अनेकों कारण

युवाओं की समस्या के अनेकों कारण उक्त विषय आज लगभग सभी समाजों के समक्ष विचारणीय है ।इससे पहले कि यह समस्या विकराल रूप ले, इसके गंभीरता पूर्वक त्वरित समाधान की आवश्यक्ता है । ” विमर्श ” और रिश्तों की ” शुभ पहल ” सेवा परिवार द्वारा ” संवाद ” के रूप में सामाजिक समस्याओं पर […]

Continue Reading

अपनी अपनी ढपली-अपना अपना राग

व्यक्ति, समाज और संगठन..अपनी अपनी ढपली-अपना अपना राग.. ” विमर्श ” के इस अंक के लिये भी, हमेशा की है तरह मैंने वर्तमान परिवेश के अनुरूप ही विषय का चयन किया है । विषय के अनुरूप विचार साझा करने से पूर्व, आप सभी से विनम्र आग्रह है कि कोई व्यक्ति-विशेष अथवा समूह इन्हें व्यक्तिगत नहीं […]

Continue Reading

स्त्री और पुरूष परस्पर पूरक

अविवाहित युवकों की बढ़ती उम्र और संख्या : हम और आप मौन, जिम्मेदार कौन ?  उक्त विषय वर्तमान परिवेश की सम-सामयिक और ज्वलंत समस्या है, जिसने समूची मानवीय सभ्यता के भविश्य समक्ष प्रश्न चिन्ह लगा दिया है ! इस सम-सामयिक विषय को  गंभीरता से लेते हुए एक सकारत्मक, सार्थक एवं स्वस्थ्य विचार विमर्श की महती […]

Continue Reading

क्या हम इलेक्ट्रिक वाहनों के अनुकूलन के लिए तैयार हैं?

हेलो रीडर्स, यहां हम आप सभी के लिए एक और नया दिलचस्प लेख लेकर आए हैं, जिसमें ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में इलेक्ट्रिक व्हीकल को अपनाने के मौजूदा तथ्यों के बारे में जाना गया है। हम में से कई लोग बहुत उत्सुक थे जब हमने सुना कि इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में आने वाले हैं जो लागत में […]

Continue Reading

सामजिक चरित्र का निर्माण

सामजिक चरित्र का निर्माण किसी भी समाज के संगठन एवं सफल निर्माण और क्रियानावन के लिए समाज में  एक उच्च चरित्र का होना आवश्यक है| सामाजिक चरित्र किसी भी समाज के लिए एक स्थाई  और सुद्रिढ गुण है। सामाजिक संरचना के हम सभी सहभागी और प्रतिभागी है| हमारी ब्यक्तिगत चरित्र ही सामाजिक चरित्र को चरितार्थ […]

Continue Reading

विवाह सामाजिक संस्कार है

विवाह सामाजिक संस्कार है       प्राचीन समय में विवाह एक पवित्र विधान माना जाता था। इसमें युवक- युवतियां जीवन के एक ऐसे पाश में बंध जाते थे, जिसे मृत्यु के अतिरिक्त अन्य कोई शक्ति छिन्न-भिन्न नहीं कर सकती थी, लेकिन आज हमारे देश के युवक-युवतियाँ अपनी सभ्यता और संस्कृति से दूर हट कर पाश्चात्य […]

Continue Reading

युवकों के अनुपात में युवतियों की कमी

आजकल युवकों के  अनुपात में युवतियों की कमी  होना  संवाद के माध्यम से इस विषय पर परिचर्चा करने के लिए आयोजकों का धन्यवाद देना चाहती हु। विषय सच मे विचार करने योग्य है, वैसे तो इस विषय से जुड़ी बहुत सारी बाते है जिन पर हम अपने विचार रख सकते पर आज  मैं सिर्फ युवकों […]

Continue Reading

नववर्ष: मैं सनातन समय हूँ

मैं समय योग हूँ, काल पुत्र हूँ, तिथियों के बंधन से मुक्त हूँ। दिन, वर्ष, महीनों में बँटा नहीं, मैं नदियों की धार विरक्त हूँ। मैं सहस्त्रार से सुषुम्णा तक दिव्य, आलोक से ऊर्जस्वित संकल्प हूँ। मैं अन्तरंग-बहिरंग के मध्य स्थित, एक ओज, एक गति, एक प्राणचक्र हूँ। मैं हूँ शाश्वत समय, विश्वनियन्ता, नूतन प्रति […]

Continue Reading

मकर संक्रांति: खेल

खेल में छुपे हैं कितने रंग, गंध और किलकारियाँ! तितलियों के पीछे भागना सुबह से शाम, जुगनुओं की रोशनी को मुट्ठी में कैद कर बतियाना तालाब की मँुढेर पर! खेल है हृदय का स्पंदन बच्चों की निश्छल हँसी जीवन का ज़्ाज्बाती संगीत और कलियों का बचपन – आँख-मिचैली अकड़म-बकड़म कंचा, गोली हु-तु-तु-तु । खेल है […]

Continue Reading

ग़ज़ल : चुनौतियाँ और अवसर

नये वर्ष की नई आँधियाँ, नये मंत्र और नई सिद्धियाँ। नये फ़लक पर वही सियासत, हमें लड़ाये पहन टोपियाँ। वैषिली यह हवा चली है, होठों पर फिर वही चुप्पियाँ। समय की रंगत कौन बताए, अगहन पौष की सुर्ख सर्दियाँ। अपना तो फ़लसफ़ा रूमानी, ठाठ कबीरी, सूफी गलियाँ। वर्ष ख़्वाब-सा बीत गया यह, फूलों से उड़ […]

Continue Reading

तीन दिवसीय हैहयवंशी क्षत्रिय क्रिकेट लीग (HCL-2)

हैहयवंशी क्षत्रिय समाज कानपुर उ०प्र द्वारा आयोजित तीन दिवसीय हैहयवंशी क्षत्रिय क्रिकेट लीग (HCL-2) हैहयवंशी क्षत्रिय युवा मंच के द्वितीय स्थापना दिवस के अवसर पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी हैहयवंशी क्षत्रिय क्रिकेट लीग का आयोजन दि०24 जनवरी रविवार, 25 जनवरी सोमवार, 26 जनवरी मंगलवार 2021 को स्थानीय रतनलाल शर्मा क्रिकेट स्टेडियम किदवई नगर […]

Continue Reading

भ्रामरी प्राणायाम

भ्रामरी प्राणायाम (क) सावधानी – जिन लोगों के कान में इंफेक्शन होता है उन लोगों को भ्रामरी का अभ्यास नहीं करना चाहिए,  जिन लोगों को हाई बीपी ज्यादा होता है उनको सावधानीपूर्वक स्वास भरना चाहिए ।(ख) चक्र  – कम से कम पांच चक्र तक का अभ्यास करना चाहिए ।हाई बीपी ह्रदय रोग या हाइपरटेंशन में […]

Continue Reading

व्यंजन: स्वादिष्ट बेसन के गट्टे 

व्यंजन: स्वादिष्ट बेसन के गट्टे  विशेष: हमारा प्रयास पुरातन भारतीय व्यंजन (विशेष कर ग्रामीण परिवेश) को आधार बनाते हुए, सभी डिश व्यंजनों को आप के मध्य लाने का प्रयास है, आप इस भारतीय व्यंजन को अवश्य अपने किचन में स्थान देते हुए इसके स्वाद का रसवान करें, और अपना कमेंट्स जरूर करें| इस व्यंजन को […]

Continue Reading

बुराई की जड़

बुराई की जड़ मूल कहानीकार अयोध्या प्रसाद “कुमुद”, बुंदेलखंड, प्रकाशन राष्ट्रधर्म लखनऊ “बुराई नौका में छिद्र के समान है। वह छोटी हो या बड़ी, एक दिन नौका को डूबो देती है।“: कालिदास  एक पंडित थे, बड़े धर्मी कर्मी, ज्ञानी l उन्होंने एक नगर के विषय मे सुना कि वह अत्यंत सुन्दर है l तो उसे […]

Continue Reading

स्मृति शेष: परमपूज्य श्री प्रेमशंकर ताम्रकार “घायल”

स्मृति शेष: समाज-रत्न परमपूज्य श्री प्रेमशंकर ताम्रकार  “घायल” स्मृति शेष परमपूज्य श्री प्रेमशंकर ताम्रकार  “घायल” के श्री चरणों में सादर नमन करते हुए उनके कृतित्व व व्यक्तित्व का परिचय देते हुए मै उन्हें सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं | आपने अपने व्यवसाय वृत्ति के रूप में कृषि विभाग में ए डी ओ पद पर अपनी सेवाएं […]

Continue Reading

नूतन आस  

नूतन आस   नूतन वर्ष अभिनंदन के सुअवसर पर प्रस्तुत है – डुमराँव(बिहार) के जाने-माने कवि एवं लेखक दीप कुमार ‘दीप’ की ‘नूतन आस’ शीर्षक कविता। इस छोटी सी रचना में समय परिवर्तन के संदर्भ में संघर्षरत कर्मव्रतियों की वस्तुस्थिति एवं मनोदशा के जो भाव उकेरे गए हैं, वे अत्यंत मार्मिक और हृदयस्पर्शी हैं। परिवर्तन मन-तल […]

Continue Reading

आपको चुनौतियों और अवसर  दोनों को समझना पड़ेगा 

आपको चुनौतियों और अवसर  दोनों को समझना पड़ेगा  आज के इस बदलते परिवेश में अगर इस समाज के साथ आगे बढ़ना है तो आपको चुनौतियों और अवसर  दोनों को समझना पड़ेगा और उससे भी पहले अगर जरूरत है तो यह समझना कि असल में चुनौती से तात्पर्य क्या है ?और अवसर क्या है जब तक […]

Continue Reading

अपने बच्चों के सबसे अच्छे गाइड बनें

समस्या मात्र हमारे ही समाज में नहीं लगभग सभी विकासशील समाज में है आपने “ अविवाहित युवकों की बढ़ती उम्र एवं संख्या ” जैसे समसामयिक एवं ज्वलंत मुद्दे पर आधारित विषय पर मुझे अपने  विचार व्यक्त करने का मौका दिया, सबसे पहले हम ” विमर्श ” और आप सभी का  हृदय से आभार व्यक्त करना […]

Continue Reading

नारी तू नारायणी

“नारी तू नारायणी ”  ” संवाद ” जैसे सकारात्मक कार्यक्रम का आयोजन करने के लिये सबसे पहले तो मैं आयोजकों को हृदय से धन्यवाद देना चाहती हूं । सामाजिक मुद्दों पर आधारित इस राष्ट्रीय बहस में आपने मुझे स्थान दिया यह मेरे लिये सौभाग्य की बात होगी । इस महत्वपूर्ण विषय के लिये मेरा विचार […]

Continue Reading

बेटी नहीं बचाओगे, तो बहू कहाँ से लाओगे

हैहयवंशीय क्षत्रिय समाज और विवाह योग्य युवतियों की संख्या में कमी.. आज..मैं आप सभी के सन्मुख जिस विषय पर अपने विचार  प्रस्तुत कर का प्रयास कर रहा हूँ । वर्तमान परिप्रेक्ष्य की उस कड़वी सच्चाई से हम और आप भली भांति परिचित हैं ! यह अलग बात है, जिस विषय से हमें आज कोई समस्या […]

Continue Reading

संस्मरण : हैहयवंश शिरोमणि डॉ श्री लखनलाल ताम्रकार

हैहयवंश शिरोमणि: डॉ श्री लखनलाल ताम्रकार आत्मज स्व श्री शंकर लाल जी  ताम्रकार  मध्यप्रदेश में भगवान श्री राजराजेश्वर श्री सहस्रार्जुन जी की प्राचीन माहिश्मती के नाम से पहिचाने जाने वाली, मोक्ष दायिनी रेवा मैया के किनारे बसी नगरी मंडला के मंडला के प्रतिष्ठित व्यापारी एवं मालगुजार  हैहयवंशीय श्री सेठ अधारीलाल जी ताम्रकार के परिवार में […]

Continue Reading

अशोक कसेरा वाराणसी केराना व्यापार समिति के महामंत्री चुने गये

अशोक कसेरा वाराणसी केराना व्यापार समिति के महामंत्री चुने गये हैहयवंशीय क्षत्रिय श्री अशोक कसेरा वाराणसी केराना व्यापार समिति के पंचवर्षीय चुनाव मे तीसरी बार सर्वसम्मति से महामंत्री चुने गये हैं | हैहयवंशीय  अशोक कसेरा समाज की विभिन्न समितियों के माध्यम से समाज सेवा मे सक्रिय भूमिका निबाहते रहे हैं | सोम्य स्वभाव के श्री अशोक […]

Continue Reading

श्री दत्तबावनी

श्री दत्तबावनी यह दत्त बावनी है, इसकी मूल रचना गुजराती में है, जिसका मराठी अनुवाद साथ ही है। हिंदी अनुवाद हेतु मुझे प्राप्त हुई थी, मैंने अपने सीमित मराठी भाषा ज्ञान के आधार पर इसका हिंदी अनुवाद कर प्रेषित किया था, संभवतः अनुवाद में किंचित त्रुटियां भी हो सकती हैं । या स्तोत्राची रचना नारेश्वरनिवासी […]

Continue Reading

नई चुनौतियां और नए अवसर

नई चुनौतियां और नए अवसर कहते हैं जीवन में चुनौतियां न हो तो जीवन जीने में क्या मज़ा चुनौतियां ही मनुष्य को नए अवसर अनुभव प्रदान करती है चुनौती मनुष्य को बहुत कुछ सिखाती भी है तो बहुत कुछ छीन भी लेती है किसी ने सच ही कहा है अगर आप किसी रास्ते पर जा […]

Continue Reading

वर्ष 2021 में समाजिक सहयोग के कुछ संकल्प

वर्ष 2021 में समाजिक सहयोग के कुछ संकल्प वर्ष 2020 करोना महामारी की भेंट चढकर समाप्त हो गया. यह बर्ष जीवन में कुछ खट्टे मिठ्ठे कुछ अच्छे कुछ बूरे अनुभव छोड़ गया है. इस बर्ष में लाकडाऊन काल में  कईं व्यक्तियों, परिवारों के व्यापार, व्यवसाय, नोकरी, रोजगार को प़भावित किया. कईं समाज बंधु अपनी नोकरी […]

Continue Reading

युवकों की वैवाहिक समस्या का दानव

युवकों की वैवाहिक समस्या का दानव आज समाज में सबसे बड़ी समस्या समाज के युवकों के विवाह की है अक्सर सवाल किये जा रहे हैं समाज में अविवाहित युवकों की बढ़ती हुई संख्या पर  -^^समाज मौन ,जिम्मेदार कौन **पहले लड़की  के परिवार वाले अपनी बच्चियों के विवाह के लिए चिंचित रहते थे  जब किसी की […]

Continue Reading

मील का पत्थर बनें

मिले साथ सभी का करते  हैं  हम इंतजार यार सभी का। चाहते  हैं मिले  हमे साथ सभी  का। करते हैं हम हर पल सम्मान सभी का।  खुशियों से भरा हो घर संसार  सभी का। मुश्किल में भी लोगो  हिम्मत मत  हारो ।अवसर हैयारो सभी के साथ में चलने का। अंत भला तो सब भला कहता हैजग सारा। […]

Continue Reading

समाज मे अविवाहित लड़के – लड़कियों की गंभीर समस्या 

समाज मे अविवाहित लड़के – लड़कियों की गंभीर समस्या  दोस्तो  आज हर समाज मे अविवाहित, कुंवारे बैठे लड़के – लड़कियों की एक गंभीर समस्या  सामान्य रुप से उभर के सामने आ रही है। इसका सबसे बड़ा कारण है।  समाज मे लड़कियों की कमी ! आज समाज मे जहाँ लड़कियाँ पढ़ लिख कर अपने पैरों पर […]

Continue Reading