समाज के प्रति नकारात्मक मानसिकता एवं सामाजिक अलगाव

प्राय देखा जाता है कि समाज में कुछ लोग की नकारात्मक सोच, पृवृति होकर, यह कहते पाये जाते हैं कि समाज ने हमारे लिए क्या किया है जो हम समाज को समय दे, या समाज को सहयोग करे. ऐसे लोग प़ाय समाज में रिश्ते सिर्फ अपने स्वार्थ के आधार पर रखते हैं, जहाँ इनका स्वार्थ […]

Continue Reading

ऐतिहासिक विरासत, सम्पतियों को संरक्षित किया जाना चाहिए

खुरई तहसील जिला सागर के अन्तर्गत ग़ाम गडोला जागिर ग़ाम में हैहय बंशी क्षत्रिय समाज के शक्ति माता स्थल का जीर्णोद्धार कर मंदिर का निर्माण किया जाकर समाज की महत्वपूर्ण विरासत, सम्पत्ति को संरक्षित किया गया. इस शक्ति माता मंदिर को श्री चन्द्र कांत जी तार्मकार एवं उनके सहयोगियों ने समाज के सहयोग से मंदिर […]

Continue Reading

आओ समाज को होली के रंगो से भरे

सम्मानित  स्वजाति बंधुओं इस बार होली पर हम सब मिलकर इस बात पर विचार करे होली हमें इस बात का संदेश देती है कि सभी के जीवन में खुशियों का रंग भरा रहे। संवत्सर होलिका दहन से होता है। जो सभी बुराईयों को पीछे छोड़ जाने का, मन की क्लेश को अग्नि की भेंट चढ़ाने […]

Continue Reading

उच्च शिक्षा के लिये प्रशंसनीय सकारात्मक पहल

समाज की उन्नति एवं सर्वांगीण विकास के लिये, बुनियादी शिक्षा के साथ-साथ, उच्च शिक्षा एवं विषय विशेषज्ञता अतिआवश्यक है । शिक्षा जहाँ समाज की रीढ़ है वहीं, मनुष्य के तीसरे नेत्र के रूप में कार्य करती है । शिक्षा न केवल बुद्धि का परिष्कार करती है, बल्कि व्यक्ति, परिवार, समाज एवं राष्ट्र का सर्वांगीण विकास भी तय करती है । शिक्षा व्यक्ति की सोच को सकारात्मकता प्रदान करती है, जिसके फलस्वरूप उसकी बौद्धिक, तार्किक, व्यापारिक, आर्थिक एवं सामाजिक सहित सर्वांगीण उन्नति के द्वार स्वत: ही खुल जाते है ।

Continue Reading

मूर्ख व्यक्ति की विध्वंसक शक्तियां

यह लेख विश्वप्रसिद्ध लेखक “Carlo M Cipolla” की पुस्तक “The Basic Laws of Human Stupidity” मे दिए गये सिद्धांतों पर आधारित है | इसका समाज के किसी व्यक्ति से कोई सरोकार नहीं है, अगर ऐसा लगता है तो यह महज एक संयोग ही होगा | मूर्खता करने वालों को कम न आंकें समझदार लोगों की […]

Continue Reading

जिंदगी रंग बसंत

जिंदगी कई रंगों से सजी होती है इसीलिए जिंदगी कहलाती है । माघ माह का पांचवा दिन बसंत पंचमी के रूप में मनाया जाता है और बसंत भारतीय मौसम में सबसे ज्यादा खुशनुमा मौसम माना जाता है । यह मौसम न सिर्फ खेत खलिहानों में तेजस्विता लाता है बल्कि मानवीय जीवन मे प्रेम का अंकुरण […]

Continue Reading

काव्य कृति क्रांतिदूत

आपातकाल पर पहली पठनीय काव्य-कृति क्रंतिदूत: आपातकाल और श्री जयप्रकाश नारायण                         विमोचन दिनांक १६-०१-२०२१  प्रेस क्लब रायपुर –                                                 काव्य  कृति क्रांतिदूत के सम्बन्ध मैं दो शब्द श्री रामाधारी सिंह दिनकर जी ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी के बारे में लिखा था जयप्रकाश नाम है आतुर हठी जवानी का जयप्रकाश नारायण जी विलक्षण प्रतिभा के धनी […]

Continue Reading