डिजिटल विमर्श
Home » लेख » विशेषांक » होली » फगुनहटा होली

फगुनहटा होली

फगुनहटा होली

जब फगुनहटा कुछ तेज चले,
समझो होली तब आई है।
जब घर घर गुझिया,पापड़ बने,
समझो होली तब आई है।

जब पिचकारी की हाट सजे,
जब रंगबालो की शाॅप सजे ,
जब मेवा, मावा साथ बिके,
समझो होली तब आई है।

जब फगुनहटा कुछ तेज चले,
समझो होली तब आई है ।।

जब गली गली मे आग जले,
फागुन के फूहड़ गीत बजे ,
जब रंग गुलाल कुछ तेज उड़े,
समझो होली तब आई है।

जब फगुनहटा कुछ तेज चले, 
समझो होली तब आई है ।
जब रात मे हल्की सी ठंड लगे,

फिर दिन मे धूप की टनक लगे,
जब हैपीहोली सब कहने लगे, 
समझो होली तब आई है ।

जब फगुनहटा कुछ तेज चले, 
समझो होली तब आई है ।।

जब ढोल नगाड़े साध बजे,
जब होली होली चहुँ ओर सुनें,
जब होलियारों की टोली चले, 
समझो होली तब आई है।

जब फगुनहटा कुछ तेज चले, 
समझो होली तब आई है ।।

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें

इस लेख के रचनाकार से मिलिये

प्रमोद कुमार 'विदित' ताम्रकार

एडवोकेट, हाईकोर्ट इलाहाबाद
मो0 8896282448
पता- 207/5/1 टी, बेनीगंज, प्रयागराज- 211016

हमारा धर्म हमारी संस्कृति

टेक्स्ट की साइज़ सेट करें