रीता मेडम के स्वादिष्ट व्यंजन

उदर भक्ति होली

विशेष: हमारा प्रयास पुरातन भारतीय व्यंजन (विशेष कर ग्रामीण परिवेश) को आधार बनाते हुए, सभी डिश व्यंजनों को आप के मध्य लाने का है, आप इस भारतीय व्यंजन को अवश्य अपने किचन में स्थान देते हुए इसके स्वाद का रसपान करें, और अपना कमेंट्स जरूर करें|

पौष्टिकता:

इस  हरे चने से बने डिश  को वैसे तो सम्पूर्ण ग्रामीण  भारत में सभी जगहों पर बनाई जाती है| परन्तु यह मुख्यतः: उत्तर – पूर्व भारत के ग्रामीण क्षेत्र का जाडे के मौसम में  प्रमुख रेसिपी है जिसे सर्दी के मौसम खाने में पसंद की जाती है| आयुर्वेद में भी चना के पौष्टिकता के आधार पर ही इसको बीमारियों के लिए औषधि के हरा चना हर किस्म के चने का अपना अलग ही स्वास्थ्यवर्द्धक गुण होता है।चने का साग कषाय, अम्लिय, मल रोकने वाला, रुचिजनक, कफ कम करने वाला, कठिनता से पचने वाला चना एक ऐसा खाद्दान्न है जो देश के हर प्रांत के लोग किसी न किसी रुप में इसका सेवन करते हैं। आयुर्वेद में भी चना के पौष्टिकता के आधार पर ही इसको बीमारियों के लिए औषधि के रुप में प्रयोग किया जाता है। चना खाने से न सिर्फ ऊर्जा मिलती है बल्कि वजन, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज नियंत्रण में होने के साथ-साथ सिर दर्द, खांसी, हिचकी, उल्टी जैसे बीमारियों के लिए भी फायदेमंद है।

 

 व्यंजन 4-5 सदस्यों के लिये, समय – 30 मिनिट

हरे चने साग की कुरकुरे पकौड़ी


सामग्री:

हरे चने साग 250 ग्राम, चावल का आटा – 2 टेबल स्पून, हरी मिर्च – 2-3, अदरक – 1 इंच लम्बा टुकड़ा (1 छोटी चम्मच पेस्ट), टमाटर -2, तेल या घी – 1 चुटकी  हींग – 1-2 चुटकी, जीरा – आधा छोटी चम्मच, नमक – स्वादानुसार ( 3/4 छोटी चम्मच), लाल मिर्च – 1/4 छोटी चम्मच

विधि :

सबसे पहले चने के साग को साफ कर लेगे, फिर उसे छोटे -छोटे काट लेगे उसके बाद पानी से अच्छे से धोकर छान लेगे और अलग वर्तन में रख लेगे, उसके बाद उसमें कटा प्याज़, बेसन, चावल का आटा हरी मिर्च अदरक,हल्दी, नमक, धनिया की पत्ती, डाल कर मिला ले l उसके बाद कड़ाई में रिफाइंड डालकर उसमें छोटे -छोटे टुकड़े में पकौड़ी केगोल  आकार में डालकर ब्राउन होने तक तल ले, फिर उसे निकाल कर गरमागर्म इमली या धनिये की चटनी के साथ सर्व करेl

हरे चने साग की साग-भाजी 


सामग्री:

चने की साग – 250 ग्राम, बथुआ का साग 100 ग्राम चावल का आटा – 2 टेबल स्पून, , लहसुन 10से 12कली, हरी मिर्च 5-6,मेथी दाना चुटकी भर, हींगथोड़ा सा नमक स्वादनुसार, अमचूर पाउडर एक छोटा चम्मच, अदरक – 1 इंच लम्बा टुकड़ा (1 छोटी चम्मच पेस्ट), टमाटर -2, तेल या घी – 1 टेबल स्पून, हींग – 1-2 पिंच, जीरा – आधा छोटी चम्मच, नमक – स्वादानुसार ( 3/4 छोटी चम्मच), लाल मिर्च – 1/4 छोटी चम्मच

विधि :

आप सभी ने सरसों का साग के बारे में सूना और खाया ही होगा लेकिन क्या आप ने कानी चने का साग  खाया है? इन दिनों हरे चने के साग बाजार में उपलब्ध हैं| सर्दियों की रात में खाने में चने के साग के साथ गैंहूं, मक्का, या बाजरे की रोटी का स्वाद सिर्फ खाकर ही जाना जा सकता है| सबसे पहले चने की साग और बथुये को साफ कीजिये, बड़ी डंडियों को हटा दीजिये, मुलायम पत्तों को सब्जी के लिये तोड़ कर अलग कर लीजिये. पत्त्तों को साफ पानी से 2 बार धो कर थाली में रखिये| 

साग को साफ कर ले उसके बाद साग को महीन काट ले और धोकर एक तरफ रख ले अब साग को कुकर में डालकर बॉयल कर ले आधा छोटा कप पानी डालकर 5-6सीटी आने के बाद गैस ऑफ कर दे, अब एक कड़ाई में सरसों का तेल गर्म करके उसमें मेथी दाना,कटा लहसुन मिर्ची, और हींग डाले, ज़ब तड़का लाल हो जाये तब उसमे ब्वाल चने का साग डाल दे और चलाते रहे,ऊपर से साग में दो चम्मच चावल का आटा और एक छोटा चम्मच अमचूर पाउडर डालकर बराबर चलाते रहे ज़ब वह अच्छी तरह भून जाये तब गैस ऑफ कर दे, और धनिया पत्ती से ग्रनिस कर गैंहूं, मक्का, या बाजरे की रोटी या पूड़ी के साथ सर्व करे

श्रीमति रीता सिंह चंद्रवंशी
Latest posts by श्रीमति रीता सिंह चंद्रवंशी (see all)